अब “नो कॉर्ड, नो कैश”, आधार से ऐसे होगी ट्रांजेक्शन
Reading Time: 2 minutes

-आधार से होगी ट्रांजेक्शन, जानिए कैसे करेगा काम

एम4पीन्यूज, चंडीगढ़ 

ब्लैक मनी पर ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ करने के बाद केंद्र की मोदी सरकार लगातार डिजीटल पेमेंट को बढ़ावा दे रही है। इसी क्रम में सरकार आधार पेमेंट ऐप लॉन्च करने वाली है, इसके पीछे सरकार की मंशा डिजीटल पेमेंट की आलोचना करने वाला मुंह करना है। साथ ही लोगों को भी प्लास्टिक कार्ड और प्वाइंट ऑफ सेल्स मशीन से छुटकारा मिल जाएगा। जिसे कैशलैस सोसाइटी के लिए जरुरी माना गया है। बस आपके 12 डिजीट वाले आधार कार्ड के जरिए ही किसी भी तरह का कैशलेस ट्रांजेक्शन होगा। यह ऐप 25 दिसंबर (रविवार) को लॉन्च किया जाना है। इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक इस एप के जरिए सर्विस प्रोवाइडर कंपनी जैसे वीजा और मास्टरकार्ड को चुकाई जानी वाली फीस भी नहीं देनी होगी। आधार एप का इस्तेमाल दूरदराज के गांवों में भी व्यापारी पेमेंट के लिए कर सकेंगे। हालांकि इसके लिए एंड्रॉयड फोन होना जरुरी है।

कैसे काम करेगा आधार पेमेंट ऐप :
आधार पेमेंट ऐप का यूज करने के लिए सबसे पहले आपको इसे अपने फोन में इन्सटॉल करना होगा। उसके बाद इसे बॉयोमेट्रिक रीडर से जोड़ना (कनेक्ट) होगा। अब कस्टमर को अपने आधार कार्ड पर अंकित 12 डिजीट का आधार नंबर ऐप में डालना होगा। उस बैंक का चयन करना होगा जिसके जरिए आप पेमेंट करना चाहते हैं। इस ऐप में बायोमेट्रिक स्कैन पासवर्ड की तरह काम करेगा।

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकार (UIDAI) के सीईओ अजय भूषण पांडेय ने ईटी को बताया, ‘यह ऐप किसी भी व्यक्ति द्वारा बगैर फोन के भी इस्तेमाल किया जा सकता है। भारत में करीब 40 करोड़ लोग आधार नंबर के जरिए बैंकों से जुड़े हुए हैं जो कि देश में व्यस्कों के संख्या के आधे हैं। हमारा उद्देश्य सभी आधार नंबरों को मार्च 2017 तक बैंक अकाउंट्स से जोड़ने का है। आधार पेमेंट ऐप को आईडीएफसी बैंक ने UIDAI और नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के सहयोग से बनाया है। इसे रविवार को राष्ट्रीय स्तर पर लॉन्च किया जाना है। इससे पहले यह एप वित्त मंत्री अरुण जेटली और सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद को 19 दिसंबर को दिखाया गया था।

आईडीएफसी बैंक के एमडी और सीईओ राजीव लाल के मुताबिक, ‘यह ऐप आधार पर चलेगा जिसका मतलब है कि यह एक बड़ी संख्या में लोगों को जोड़ेगा।’ जिस भी व्यक्ति के पास आधार नंबर है वह इस ऐप के द्वारा मर्चेंट को पेमेंट कर सकता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा कि व्यक्ति के पास कोई क्रेडिट या डेबिट कार्ड या कोई मोबाइल फोन है या नहीं।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

news

Truth says it all

Leave a comment