Reading Time: 3 minutes

-शरीर को आग लगाकर होता है इलाज

एम4पीन्यूज

बीमारी का ईलाज एक डॉक्टर दवाईयों से ही करतता है, लेकिन कई प्राचीन विधाएं आज भी चली आ रही हैं, जिनमें बिना किसी दवाईयों जड़ी-बुटियों के भी ईलाज संभव है। ऐसी ही एक विधा है फायर थेरेपी जो कि पिछले 100 से ज्यादा सालों से चीन में इस्तेमाल हो रही है। इस विधि से इलाज करने वाले ‘झांग फेंगाओ’ अपने काम के लिए काफी लोकप्रिय हैं।

आज भी चीन में कई बीमारियों के इलाज के लिए फायर थेरेपी अपनाई जाती है। इलाज करने वाला मरीज के शरीर पर अल्कोहल का छिड़काव कर आग लगा देता है। चीन में कुछ लोग इसे खास तरह का इलाज मानते हैं जिससे तनाव, अवसाद, बदहजमी और बांझपन से लेकर कैंसर तक का इलाज संभव माना जाता है। झांग फेंगाओ का कहना है कि “फायर थेरेपी मानव इतिहास में चौथी बड़ी क्रांति है। इसने चीनी और पश्चिम दोनों ही तरह की इलाज पद्धति को पीछे छोड़ा है।”

यहां इलाज के लिए दवाईयों का इस्तेमाल नहीं, शरीर को लगाई जाती है आग

यहां इलाज के लिए दवाईयों का इस्तेमाल नहीं, शरीर को लगाई जाती है आग

आग से कैसे होता है इलाज :
फेंगाओ बीजिंग के एक छोटे से अपार्टमेंट में लोगों का इलाज करते हैं। एक वेबसाइट के मुताबिक उन्होंने एक मरीज की पीठ पर जड़ी बूटियों से बना एक लेप लगाया, उसे एक तौलिये से ढक दिया। फिर उस पर पानी और अल्कोहल का छिड़काव करते हुए वह कहते हैं, “इस विधि का इस्तेमाल करके लोग ऑपरेशन से बच सकते हैं।” इसके बाद फेंगाओ ने अपना लाइटर जलाया और मरीज की रीढ़ की हड्डी पर आग की लौ को फिराया। फेंगाओ ऐसे ही करते हैं बीमारियों का ईलाज।

यहां इलाज के लिए दवाईयों का इस्तेमाल नहीं, शरीर को लगाई जाती है आग

यहां इलाज के लिए दवाईयों का इस्तेमाल नहीं, शरीर को लगाई जाती है आग

आखिर क्या है इलाज का सिद्धांत :
इलाज का यह तरीका चीन की प्राचीन मान्यताओं पर आधारित है जिसके अनुसार शरीर में गर्मी और ठंडक के बीच सामंजस्य बनाने पर जोर दिया गया है। फेंगाओ के मुताबिक शरीर की ऊपरी सतह को गर्म करके अंदर की ठंडक दूर की जाती है। फायर थेरेपी से इलाज हाल में एक बार फिर चर्चा में आया जब एक मरीज की इलाज के दौरान खींची गई फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

यहां इलाज के लिए दवाईयों का इस्तेमाल नहीं, शरीर को लगाई जाती है आग

यहां इलाज के लिए दवाईयों का इस्तेमाल नहीं, शरीर को लगाई जाती है आग

मीडिया में आया था मामला :
आपको बता दें फायर थेरेपी को लेकर चीनी मीडिया में कई सवाल भी खड़े हुए हैं, इनमें अहम है कि इलाज करने वाले के पास सर्टिफिकेट है या नहीं। इलाज के दौरान किसी दुर्घटना से बचने के लिए किस तरह की सुरक्षा व्यवस्था है? फेंगाओ का कहना है, “कई बार लोगों को चोट भी आई है, कई बार मरीज चेहरे और शरीर के दूसरे हिस्सों पर जल भी गए। लेकिन यह सही तरीकों की कमी की वजह से हुआ?”

भयंकर बीमारियों के इलाज में भारी भरकम रकम खर्च करना हर किसी के बस की बात नहीं। ऐसे में सस्ते इलाज की भारी मांग है। हालांकि इस बात के कोई प्रमाण नहीं है कि फायर थेरेपी वाकई कारगर है।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

news

Truth says it all

Leave a comment