नोटबंदी में पियक्कड़ों की पौ बारह
Reading Time: 1 minute

एक्साइज पॉलिसी 2016-17 को किया दरकिनार

एम4पीन्यूज.चंडीगढ़। 
अब आप कुछ भी कहिये कि देश में नोटबंदी की वजह से माहौल खराब है या फिर लोग परेशान है, लेकिन इन सब परेशानियों के बीच एक बिरादरी एेसी भी है जिसकी पौ बारह हो रखी है। उन्हें हर मौके पर पीने की अादत जो है। अब इस नोटबंदी की टेंशन में अगर इनसे अाप ये हक भी छीन लेंगें तो सरकार का बचना जरा मुशि्कल हो जाएगा।
बहरहाल बात हो रही है पियक्कड़ों की। अब इनकी पौ बारह कैसे, हम बतातें हैं।
ठेके पर जाइए साफ साफ बोर्ड पर लिखा दिखाई देगा कि फलाना फलाना शराब की बोतल पर रुपए 100 की छूट। इससे पहले जबसे नोटबंदी लागू हुई है और कहीं छूट्टा मिले या न मिले, ठेकों पर आराम से मिल रहा था।
क्योंकि आज रात से सब जगह हजार व पांच सौ रुपए के पुराने नोटों का चलन बंद हो जाएगा तो ठेको ने इसके लिए एक्साइज पॉलिसी 2016-17 को दरकिनार कर दिया।
सिग्नेचर की एक बोतल का मिनिमम रीटेल प्राइस रुपए 580 है। हम यहां एक बिल पेस्ट कर रहे हैं। मीडिया4पिल्लर के कर्मी ने ठेके से इस बोतल को लिया और दाम कार्ड स्वैप कर चुकाया। बिल लिया गया महज पांच सौ रुपए। यानी पियक्कड़ों को लुभाने और अपना माल बेचने के लिए शराब विक्रेताओं को नईं नईं स्कीमों को चलन में लाना पड़ रहा है।
बहरहाल इन हालातों में इस साथ की कईं महानूभवों की काफी जरूरत थी, शराब विक्रेताओं ने उनके दिल की रखकर उनकी पौ बारह करा दी।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment