Reading Time: 3 minutes

ऐसी खूबसूरती और कहां…

एम4पीन्यूज। चंडीगढ़ 

चंबल का नाम आते ही याद आता है खौफ और दहशत। क्योंकि भारतीय सिनेमा में चम्बल का नाम, दहशत के पैगाम के जैसा दिखाई देता था। फिर कहानियां भी मशहूर हुईं तो सिर्फ डाकूओं की। इसलिए चम्बल का नाम आते ही शरीर में सिरहन आम है। सुनने में ऐसा लगता है मानो, न जाने अब कौन सी आफत आ पड़ेगी।

लेकिन चंबल घाटी की हकीकत इससे बिल्कुल जुदा है। चंबल में कल-कल बहती खूबसूरत चंबल नदी के साथ-साथ मिट्टी के ऐसे-ऐसे पहाड़ हैं जिनकी कोई बानगी शायद ही देश भर मे कहीं और देखने को मिले।

इतना ही नहीं सैकड़ों की तादाद में दुर्लभ जलचरों का आशियाना भी चंबल नदी ही है, जिसमें घड़ियाल, मगरमच्छ, कछुए, डॉल्फिन के अलावा करीब ढाई सौ से अधिक प्रजाति के पक्षी चंबल की खूबसूरती को चार चांद लगाते हैं।

मिट्टी के पहाड़ों का है खासा क्रेज :
पीले फूलों के लिए ख्याति प्राप्त रही यह वादी उत्तराखंड की पर्वतीय वादियों से कहीं कमतर नहीं है। अंतर सिर्फ इतना है कि वहां पत्थरों के पहाड़ हैं तो यहां मिट्टी के पहाड़ है। बीहड़ की ऐसी बलखाती वादियां कहीं और नहीं देखी जा सकतीं हैं। प्रकृति की इस अद्भुत घाटी को दुनिया भर के लोग सिर्फ और सिर्फ डकैतों की वजह से ही जानती हैं।

खूबसूरती का दूसरा नाम चम्बल घाटी...

                                                                          खूबसूरती का दूसरा नाम चम्बल घाटी…

चंबल के पानी का नहीं है कोई मुकाबला :
पूरी तरह से प्रदूषण रहित चंबल की नदी के पानी को गंगाजल से भी अधिक शुद्ध और स्वच्छ माना जाता है। चंबल की इन वादियों में अनगिनत ऐसी औषधियां भी हैं जो जीवनदान दे सकतीं हैं।

खूबसूरती का दूसरा नाम चम्बल घाटी...

                                                        खूबसूरती का दूसरा नाम चम्बल घाटी…

खूबसूरती में नहीं किसी से कम चंबल :
चंबल घाटी की खूबसूरती अपने आप में बिल्कुल जुदा है। उत्तराखंड की घाटियां और कश्मीर की वादियां देखने लाखों पर्यटक पहुंचते हैं, लेकिन चंबल की खूबसूरती को कश्मीर और उत्तराखंड की तर्ज पर वो मुकाम हासिल नहीं हो सका जिसका वाकई में वो हकदार है। शायद इसकी वजह कहीं न कहीं इससे जुड़ा खौफ ही है।⁠⁠⁠⁠

खूबसूरती का दूसरा नाम चम्बल घाटी...

                                                            खूबसूरती का दूसरा नाम चम्बल घाटी…

 

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment