Reading Time: 4 minutes

किसी ने स्टार, तो किसी ने राजनेता के लिए न कि जान की फ़िक्र

एम4पी न्यूज।  

ऐसी दीवानगी देखी नहीं कहीं…ये बातें उन लोगों पर बिल्कुल सटीक बैठती है जिन्होंने अपने स्टार के लिए सारी हदें पार कर दी. कई बार तो अपने स्टार के लिए कुछ लोगोंं ने जान देने का प्रयास किया, तो कुछ ने खुद को चोट पहुंचाने के लिए अन्य तरीके अपनाएंं. अपने स्टार के लिए फैन्स की ये दीवानगी कई बार देखने को मिली. जहां कई फैंंस अपने स्टार के लिए अपनी जान तक की परवाह नहीं करते.

क्रेजी फैंस... जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

क्रेजी फैंस… जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

जयललिता :
जयललिता को दिल का दौरा पड़ने के बाद अपोलो अस्पताल के सीसीयू में हार्ट असिस्ट डिवाइस पर रखा गया था. जयललिता पिछले 74 दिनों से अपोलो अस्पताल में भर्ती थीं लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका और आखिरकार 5 दिसंबर को उनकी मृत्यु हो गई. मृत्यु के बाद उनके कई चाहने वालों ने खुदकुशी कर ली, तो कई की सदमे में मृत्यु हो गई. हाल ही में AIADMK ने एक सूची जारी की है जिसके तहत अब तक करीब 77 लोगों ने जयललिता के लिए अपनी जान दे दी है.

क्रेजी फैंस... जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

क्रेजी फैंस… जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

एमजी रामचंद्रन :
एमजी रामचंद्रन तमिलनाडु के सबसे लोकप्रिय सीएम के तौर पर जाने जाते हैं. रामचंद्रन के चाहने वाले उन्हें भगवान से कम नहीं मानते. एमजी की मौत के बाद तमिलनाडु में दंगे शुरू हो गए थे. उस वक्त की मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पूरा तमिलनाडु जल रहा था और हिंसा में करीब 29 लोग मारे गए थे और 30 लोगों ने खुदकुशी कर ली थी.

क्रेजी फैंस... जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

क्रेजी फैंस… जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

इंदिरा गांधी :
31 अक्टूबर 1984 की सुबह भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री की गोली मारकर हत्या कर दी गई औऱ हत्या करने वाला कोई और नहीं उनका खुद का बॉडीगार्ड था. उसके बाद कई लोग इंदिरा की मौत का बदला लेने के लिए सड़कोंं पर आ गए और देखते ही देखते एक छोटी से झड़प हिंसा में बदल गई और पूरा देश उसकी आगोश में आ गया. एम्स के अंदर प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का पार्थिव शरीर था और बाहर हजारों की भीड़ इकट्ठा थी. अगले तीन दिन में देशभर में हजारों सिख मारे गये. सबसे ज्यादा राजधानी दिल्ली में खून खराबा हुआ था, यहां पर करीब तीन हजार सिखों को अपनी जान गंवानी पडी थी.

क्रेजी फैंस... जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

क्रेजी फैंस… जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

रजनीकांत :
साउथ के भगवान कहे जाने वाले रजनीकांत के फैंंस ने भी कई बार उनके लिए अपनी दीवानगी साबित की है. फिर चाहे मामला रजनीकांत की फिल्म का हो या फिर उनकी बीमारी का, फैंंस उनके लिए हर बार खड़े नजर आते हैं. 2011 में रजनीकांत किडनी की बीमारी के चलते सिंगापुर के एलिजाबेथ हॉस्पिटल में भर्ती थे, तब उनके एक फैन ने उन्हें अपनी किडनी देने के लिए कहा था, उसने अपनी बात पहुंचाने के लिए जहर खा लिया था, हालांकि उसे बचा लिया गया और रजनीकांत भी स्वस्थ हो गए. स्वस्थ होने के बाद रजनीकांत ने अपने उस फैन से मुलाकात भी की थी.

क्रेजी फैंस... जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

क्रेजी फैंस… जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

अमिताभ बच्चन :
हर फैन चाहता है कि वो अपने पसंंदीदा स्टार से जीवन में एक बार जरूर मिले और उसके साथ कुछ पल बिताए, लेकिन ये कुछ फैन के साथ संभव हो पाता है. ऐसे में कई बार फैंस अपनी सीमाएं तोड़ देते हैं. ऐसा ही उदाहरण देखने को मिला था अमिताभ के लिए, जब उनके एक फैन ने उनकी घर की सुरक्षा को तोड़कर घर में घुसने की कोशिश की, वो दीवार के सहारे घर में जाना चाहता था लेकिन वो सफल नहीं हो पाया।

क्रेजी फैंस... जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

क्रेजी फैंस… जिनके जैसी दीवानगी अपने न देखी होगी कहीं

सलमान खान :
दबंंग खान को चाहने वाले कई लोग हैं. कई बार उनके फैंस भी उनके लिए सारी हदे पार कर जाते हैं. हाल ही में जब सलमान के ‘हिट एंड रन’ पर फैसला आया कि उन्हें जेल जाना पड़ सकता है तो एक फैन ने कोर्ट के बाहर जहर खा लिया था, वहीं एक फैन सलमान से मिलने के लिए बिहार से मुंबई तक साइकिल चलाकर आया और करीब 1800 किलोमीटर का रास्ता तय किया.

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment