खौफ में गुजरी शिक्षा मंत्री दलजीत चीमा की 2016 की आखिरी रात
Reading Time: 1 minute
एम4पीन्यूज़ | चंडीगढ़

2016 की रात जहाँ सभी जश्न मनाने में व्यस्त थे वहीँ पंजाब के शिक्षा मंत्री दलजीत सिंह चीमा खौफज़दा थे। अाधी रात को शिक्षा मंत्रालय से दुखी करीबन 116 शिक्षकों ने चीमा के चंडीगढ़ सि्थत घर पर रात को धावा बोल दिया।

चीमा को समझ में नहीं आ रहा था कि इन गुस्से में भरे शिक्षकों को समझाएं तो समझाएं कैसे। कुछ समझ नहीं आया तो चीमा ने पंजाब गर्वनर वी पी बदनौर के घर का रुख कर लिया।

हालत कुछ यूं खराब थी कि शिक्षा मंत्री खुद फरियादी हो गए। अाधी रात को उन्हें गर्वनर से फरियाद करनी पड़ी कि उन्हें इन गुस्साए शिक्षकों के संताप से बचाया जाए ताकि वे 2017 की सुबह शांति से मना सके।

इस पर गर्वनर बदनौर चंडीगढ़ पुलिस को तुरंत कार्रवाही करने के अादेश दिए। चंडीगढ़ पुलिस फुर्ती से 116 शिक्षकों के खिलाफ पर्चा दर्ज कर उन्हें दलजीत सिंह चीमा के घर से हटाया।

इसके बाद दलजीत सिंह चीम अपने घर वापिस जाकर नए साल के जश्न मनाने में सफल हुए। बता दें कि दलजीत सिंह चीमा शिक्षा मंत्री होने के साथ साथ शिरोमणी अकाली दल के वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं और प्रवक्ता हैं।

बहरहाल शिक्षा मंत्री जी को 2016 की अाखिरी याद आने वाले कईं सालों तक याद रहने वाली है।

इस पर सेक्टर 39 के एसएचओ राजदीप सिंह ने बताया कि रात को 116 टीचरों के खिलाफ पर्चा दायर कर लिया गया है।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment