UN में अमेरिकी राजदूत बनी अमृतसर की बेटी
Reading Time: 1 minute

दो बार गर्वनर रहीं निक्‍की हेली को ट्रंप ने दी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी

एम4पीन्यूज, चंडीगढ़। 

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दक्षिणी कैरोलिना की भारतीय मूल की गवर्नर निक्की हेली को संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत पद नामित किया। अमेरिकी प्रशासन में कैबिनेट स्तर के पद पर नियुक्त होने वाली वह पहली भारतीय अमेरिकी होंगी।

ट्रंप प्रशासन में कैबिनेट रैंक हासिल करने वाली वो भारतीय मूल की पहली महिला हैं। हेली के माता-पिता भारत से जाकर अमरीका में बसे थे। चुनाव प्रचार के दौरान वो ट्रंप की कट्टर विरोधी रहीं थीं। 44 साल की हेली को रिपब्लिकन पार्टी में एक उभरते हुए सितारे के रुप में देखा जा रहा है और वो अमरीका में सबसे कम उम्र की गवर्नर बनीं थीं। हालांकि उन्होंने ट्रंप को वोट दिया था लेकिन ये कहते हुए अफ़सोस जताया था कि वो न तो ट्रंप की और न ही हिलेरी क्लिंटन की फ़ैन हैं।

नम्रता निक्की रंधावा के नाम से एक सिख परिवार में जन्मी निक्की हेली अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाली पहली महिला थीं जो साउथ कैरोलाइना की गवर्नर बनीं। उनसे पहले कोई महिला साउथ कैरोलाइन की गवर्नर नहीं बनी थीं। उन्होंने सीरिया से आने वाले प्रवासियों का सार्वजनिक तौर पर विरोध किया था और ओबामा प्रशासन के हेल्थकेयर क़ानून का भी विरोध किया था। वो साउथ कैरोलाइना की दो बार गवर्नर चुनी गईं हैं। पहली बार वो 2010 में चुनी गईं थीं। उससे पहले वो अमरीका के निचले सदन यानी प्रतिनिधि सभा की छह साल तक सदस्य रह चुकी हैं। सिख परिवार में जन्मी निमराता रंधावा ने बाद में इसाई धर्म अपना लिया था। उनके पति माइकल हेली अमरीका के आर्मी नेशनल गार्ड में कैप्टन हैं और उनके दो बच्चे हैं।

 

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment