बिना “चिल्लर” नहीं मिल रही टिकट, लोग और रेलवे दोनों परेशान 
Reading Time: 2 minutes

बिना चिल्लर नहीं मिल रही टिकट

एम4पीन्यूज,चंडीगढ़

रेलवे में चिल्लर खत्म होने से लोगों को बिना टिकट के ही वापिस जाना पड़ रहा है। अालम ये है कि लोग को अपना निर्धारित काम को स्थगित करना पड़ रहा है। इसके चलते लोगों में नाराजगी है जो अाज साफ चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर देखने को मिली। काले धन को खत्म करने की व्यापक कोशिशों में आम जन की जिंदगी अस्त व्यस्त हो चुकी है। यातायात संसाधनों से लेकर रोजाना के काम करने भी मुशिकल हो चले हैं।

रेलवे स्टेशन पर भी बिना चेंज लोगों की हालात ख़राब है। क्योंकि टिकट के लिए लाइन में लगे लोगों के पास चेंज नहीं है और टिकट काउंटर पर भी चेंज न होने की वजह से लोगों को टिकट लेने में परेशानी आ रही है। चिल्लर के लिए उन्हें इंतज़ार करना पड़ रहा है। और इस इंतज़ार के चक्कर में उनकी ट्रैन छूट जाती है। लोगों को नोट बन्द होने की वजह से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

chillar

500 और 1000 के नोट बंद होने का असर रेलवे बुकिंग पर भी पड़ रहा है, आलम यह है कि रेलवे के तत्काल और रिजर्वेशन काउंटर पर टिकट से होने वाली कमाई आधी रह गई है। जबकि रेलवे ने अभी 500 और 1000 के नोट लेने से मना नहीं किया है, बावजूद इसका व्यापक असर देखने को मिल रहा है। सबसे ज्यादा असर शताब्दी एक्सप्रेस में पर देखने को मिल रहा है। शताब्दी में 60 से 70 फीसदी सीटें खाली रह रही हैं।

कालका से दिल्ली को जाने वाली सुबह की शताब्दी में शुक्रवार को  960 रुपये में यात्रियों को टिकट मिला। महंगा टिकट होने के बावजूद भी अपनी सुविधाओं के लिहाज से हमेशा वेटिंग लिस्ट पर रहने वाली शताब्दी एक्सप्रेस की 60 फीसद सीटें खाली रहीं। गौरतलब है कि चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से चार शताब्दी ट्रेनें जाती हैं, इनमें एक चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से, दो कालका रेलवे स्टेशन से और एक जनशताब्दी ट्रेन ऊना से चंडीगढ़ हो जाती है। फिलहाल सभी शताब्दी ट्रेनों की एक जैसी हालत थी।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment