मोदी की क्लास में पेश हुए जेटली….और….
Reading Time: 2 minutes

जेटली ने दी देश की वित्तिय स्थितियों की खबर

नोटबंदी के बाद से देश से बिखरे हाल पर हुई मुलाकात

नोटबन्दी को लेकर संसद में विपक्ष एकजुट

एम4पीन्यूज, चंडीगढ़

नोटबंदी ने देश के विपक्ष को एक मंच पर ला दिया है और एकजुटता के एक दुर्लभ मुजाहिरे के तौर पर 10 बड़े विपक्षी दलों ने आपस में हाथ मिलाते हुए इस मुद्दे पर संसद और उसके बाहर सरकार को घेरने का निश्चय किया है। नोटबंदी के मुद्दे पर एकजुट हुए विपक्ष ने संसद में अपना हंगामा सोमवार को भी जारी रखा और दोनों सदनों की कार्रवाई नहीं चलने दी। हालांकि इस विरोध का सरकार पूरा फायदा उठा रही है क्योंकि इससे उसे एटीएम और बैंकों की लाइन में लगे लोगों की परेशानी को कम करने का समय मिल रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद देशभर के हालात पर नजर रखे हुए हैं। सोमवार शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के नोट बंद करने के बाद हुए प्रभाव की एक और समीक्षा के लिए सोमवार को वित्तमंत्री से मुलाकात की।

वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और आर्थिक सलाहकार शशिकांत दास ने भी अरुण जेटली से मुलाकात कर विपक्ष के उठाए गए मुद्दे पर बात की। सूत्रों के मुताबिक, सरकार का अगला कदम ग्रामीण इलाकों में लोगों तक पहुंचना है, जिसके लिए माइक्रो एटीएम अब शहर से ज्यादा गांव में भेजने की योजना है। इसी रणनीति के तहत कृषि मंत्रालय ने किसानों के लिए बीज और खाद खरीदने के लिए पुराने 500 के नोट इस्तेमाल करने को मंजूरी दे दी। इतना ही नहीं अगले कुछ दिनों में सहकारी बैंकों पर भी निगरानी रखने की योजना है क्योंकि ज्यादा सहकारी बैंक राज्यों में किसी न किसी राजनीतिक दल से जुड़े हैं, ऐसे में उनका गलत इस्तेमाल रोकने की कार्ययोजना पर सरकार विचार कर रही है ।इस सबके बीच विपक्ष के तेवर ढीले पड़ते नजर नहीं आ रहे।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment