ब्रेकिंग: सुखना लेक पर मिनी सोलर क्रुज के साथ हुआ कुछ एेसा कि हो गया सबका मजा खट्टा
Reading Time: 2 minutes

– मिनी सोलर क्रूज पर फिलहाल आप नहीं कर पाएंगे सवारी

– सुखना लेक में उतारे गए क्रूज में खामियों के चलते अधिकारियों ने लगाई रोक

– उच्चाधिकारियों के साथ बैठक कर क्रूज चलाने संबंधी लिया जाएगा निर्णय

एम4पीन्यूज। चंडीगढ़
सुखना लेक के मिनी सोलर क्रूज में फिलहाल पर्यटक सवारी नहीं कर पाएंगे। अधिकारियों ने इस क्रूज की सर्विस पर फिलहाल रोक लगा दी है। अधिकारियों ने इस क्रूज में कई तरह की खामियां पाई हैं, जिसके चलते फिलहाल इस क्रूज को ऑपरेट नहीं करने के निर्देश जारी किए गए हैं। हालांकि इसपर अंतिम फैसला उच्चाधिकारियों के साथ बैठक में लिया जाएगा।
इस क्रूज को सुखना लेक में पिछले सप्ताह ही ट्रायल बेस पर उतारा गया था। चंडीगढ़ इंडस्ट्रियल एंड टूरिज्म डवलपमेंट कार्पोरेशन (सिटको) के इस ड्रीम प्रोजैक्ट का मकसद सोलर एनर्जी प्रमोशन करना भी था। इसीलिए क्रूज की छत में सोलर फोटोवोल्टिक के छोटे-छोटे पैनल लगाए गए हैं ताकि सौर उर्जा के प्रति लोग जागरूक हों, साथ ही पर्यटन को भी बढ़ावा मिले। इस क्रूज पर आधे घंटे की सवारी के एवज में 300 रुपए प्रति सीट रेट तय किया गया है। बाकायदा क्रूज के प्रचार को लेकर सुखना के बोटिंग टिकट काउंटर पर बड़े-बड़े पोस्टर भी लगाए गए लेकिन फिलहाल रोक के चलते फिलहाल क्रूज की सैर संभव नहीं हो पा रही है।
क्रूज की बजाए ‘जुगाड़’ क्रूज ज्यादा देता है दिखाई
सुखना लेक पर तैनात सिटको के अधिकारियों की मानें तो मिनी सोलर क्रूज को लेकर अधिकारियों की सबसे बड़ी आपत्ति इसकी बनावट को लेकर है। दरअसल, यह क्रूज की बजाए ‘जुगाड़’ क्रूज का अहसास ज्यादा करवाता है। क्रूज की बनावट ऐसी है कि लगता है कि महज फ्लोटिंग प्लेटफार्म पर कुर्सियां इन्सटॉल कर दी गई हों। इसका इंटीरियर भी उतना शानदार नहीं है कि देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों को आकर्षित कर सके। क्रूज में नाम पर इसमें सिर्फ इतनी ही ‘खासियत’ है कि इस फ्लोटिंग प्लेटफार्म को क्रूज साबित करने के लिए इसपर बड़े-बड़े अक्षरों में क्रूज लिखाया गया है।
कमियों की समीक्षा के बाद ही लिया जाएगा अंतिम निर्णय
सिटको की चीफ जनरल मैनेजर नवजोत कौर के मुताबिक मिनी सोलर क्रूज की कमियों का आंकलन किया जा रहा है। हमारी कोशिश इतनी ही है कि प्रशासनिक उच्चाधिकारियों की पूरी तसल्ली के बाद ही क्रूज को ऑपरेट किया जाए। जहां तक बात क्रूज पर रोक लगाने की है तो ऐसा नहीं है। क्रूज का लगातार ट्रायल जारी है। इस दौरान लगातार क्रूज में पर्यटकों की सेफ्टी सहित तकनीकी कमी-बेशियों का आंकलन किया जा रहा है, जिसकी पूरी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को दी जाएगी। उच्चाधिकारियों के साथ बैठक के बाद ही इसपर अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment