इस गांव में खेतों में फसल नहीं, बल्कि बोई जाती है बिजली
Reading Time: 3 minutes

यहां होती है बिजली की खेती

एम4पीन्यूज। चंडीगढ़ 

पंजाब में एक ऐसा गांव हैं जहां की मिट्टी फसल उगाने लायक नहीं है। तो यहां के लोग अपनी मिट्टी में अनाज की खेती की बजाय बिजली की खेती करते हैं। यहां दूर-दूर खेतों में लहलहाती फसलों की जगह सोलर पावर प्लांट लगे हुए हैं।

पंजाब का दूसरा सबसे बड़ा सोलर पावर प्लांट मानसा में शुरू हो गया है। इसके साथ ही सोलर पावर ग्रोथ में पंजाब देश में नंबर वन हो गया है। पिछले 4 साल में 9 से 552 मेगावॉट तक बिजली का उत्पादन पहुंच गया है। हाल ही में पंजाब के गैर रवायती ऊर्जा मंत्री बिक्रम मजीठिया ने इस प्लांट का उद्घाटन किया। यह प्लांट वहां लगाया गया है, जहां फसल कमजोर होती थी।

यहां होती है बिजली की खेती

                                                                         यहां होती है बिजली की खेती

पंजाब देश में सबसे ज्यादा सोलर एनर्जी प्रोजेक्ट्स बढ़ाने वाला राज्य बना :
– जहां ठीक से बीज नहीं पनप सकते वहां बिजली की फसल।
– 100 मेगावॉट का प्लांट पहले नंबर पर- बठिंडा के सरदारगढ़ और चुग्गे कलां में।
– मजीठिया ने बताया कि सोलर प्लांट लगाने के मामले में पंजाब दूसरे राज्यों के मुकाबले तेजी से आगे बढ़ रहा है।

यहां होती है बिजली की खेती

                                                                       यहां होती है बिजली की खेती

यहां किसान सुसाइड के मामले ज्यादा :
– ये प्रोजेक्ट कम उपजाऊ जमीन पर लगाया गया है। यहां ग्राउंड वॉटर खारा है और इलाके तक नहरी पानी भी नहीं पहुंचता।
– फसल मुश्किल से ही होती है। इसीलिए इसी एरिया में किसान आत्महत्या के मामले सबसे ज्यादा हैं।
– 42 मेगावॉट का है ये प्लांट। पुंज लॉयड कंपनी ने लगाया। हाकमवाला, गामीवाला के १७३ एकड़ में फैला।
– इन प्रोजेक्ट्स पर 7000 करोड़ की इन्वेस्टमेंट हुई।
– मार्च तक सोलर एनर्जी से पैदा होगी 1000 मेगावॉट बिजली।
– 552 मेगावॉट उत्पादन, अब तक 50 बड़े प्रोजेक्ट लग चुके हैं।

यहां होती है बिजली की खेती

                                                                         यहां होती है बिजली की खेती

किसानों को ऐसे मिलेगी राहत :
– किसानों की जमीन कंपनी ने 45 से 55 हजार रुपए प्रति एकड़ हर साल के ठेके पर ली है।
– इस रकम में हर साल 5 फीसदी इजाफा होगा।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment