आखिरकार ‘हाजी अली’ में महिलाओं को मिली एंट्री
Reading Time: 4 minutes

हाजी अली दरगाह में महिलाओं को मिली एंट्री, चढ़ाई चादर

एम4पीन्यूज, चंडीगढ़

सुप्रीम कोर्ट से इजाज़त मिलने के बाद पिछले कुछ वर्षों में पहली बार महिलाओं ने मुंबई स्थित हाजी अली दरगाह के अंदर जाकर ज़ियारत की है। कुछ साल पहले तक महिलाओं को दरगाह के अंदर मज़ार तक जाने की इजाज़त थी। दो साल पहले भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन ने दरगाह के मुख्य हिस्से में महिलाओं के प्रवेश पर लगे प्रतिबंध को चुनौती दी थी।

आखिरकार 'हाजी अली' में महिलाओं को मिली एंट्री

                                      आखिरकार ‘हाजी अली’ में महिलाओं को मिली एंट्री

आखिरकार 'हाजी अली' में महिलाओं को मिली एंट्री

                                          आखिरकार ‘हाजी अली’ में महिलाओं को मिली एंट्री

5 साल के इंतजार के बाद हाजी अली दरगाह की मुख्य मजार में महिलाओं को एंट्री मिली। मंगलवार को 80 महिलाओं ने चादर भी चढ़ाई। दरगाह की मैनेजमेंट ने फ़ैसला किया कि महिलाएं दरगाह के अंदर मज़ार तक नहीं जा सकती हैं। एंट्री बैन पर महिला संगठनों ने कोर्ट से गुहार लगाई थी। पहले बॉम्बे हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं के हक़ में फ़ैसला सुनाया। जिसके बाद अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट ने पुरुषों की तरह महिलाओं को जाने की इजाजत देने का फैसला सुनाया था।

आखिरकार 'हाजी अली' में महिलाओं को मिली एंट्री

                                     आखिरकार ‘हाजी अली’ में महिलाओं को मिली एंट्री

आखिरकार 'हाजी अली' में महिलाओं को मिली एंट्री

                                        आखिरकार ‘हाजी अली’ में महिलाओं को मिली एंट्री

बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी दी थी परमिशन :
– बाॅम्बे हाईकोर्ट ने 26 अगस्त को दरगाह में महिलाओं को मजार तक जाने की परमिशन दी थी। इसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था।
– हाजी अली के लिए मुस्लिम महिला आंदोलन संस्था ने बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर ट्रस्ट के फैसले को चुनौती दी थी।

आखिरकार 'हाजी अली' में महिलाओं को मिली एंट्री

                                            आखिरकार ‘हाजी अली’ में महिलाओं को मिली एंट्री

हाजी अली में है पीर बुखारी की कब्र :
– दरगाह में पीर हाजी अली शाह बुख़ारी की कब्र है। वे सूफी संत थे, जो इस्लाम के प्रचार के लिए ईरान से भारत आए थे।
– कहा जाता है कि जिन सूफ़ी-संतों ने अपना जीवन धर्म के प्रचार में समर्पित कर दिया और जान क़ुर्बान कर दी, वे अमर हैं।
– इसलिए पीर बुख़ारी को भी अमर माना जाता है। उनकी मौत के बाद दरगाह पर कई चमत्कारिक घटनाएं देखी जाती हैं।
– दरगाह मुंबई के साउथ एरिया वरली के समुद्र तट से करीब 500 मीटर अंदर पानी में एक छोटे-से टापू पर स्थित हैं।

आखिरकार 'हाजी अली' में महिलाओं को मिली एंट्री

                                            आखिरकार ‘हाजी अली’ में महिलाओं को मिली एंट्री

यहां आते हैं क्रिकेटर्स से लेकर फिल्म स्टार्स :
– हाजी अली दरगाह में कूली, फिजा समेत कई बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है।
– यहां पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शोएब अख्तर, बॉलीवुड स्टार संजय दत्त, इमरान हाशमी, तुषार कपूर समेत कई एक्टर्स अक्सर आते हैं।

आखिरकार 'हाजी अली' में महिलाओं को मिली एंट्री

                                         आखिरकार ‘हाजी अली’ में महिलाओं को मिली एंट्री

 

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment