जस्टिस जेएस खेहर ने ली CJI पद की शपथ, बनें भारत के 44वें चीफ जस्टिस
Reading Time: 3 minutes

-राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ जस्टिस जेएस खेहर शपथ

एम4पीन्यूज। दिल्ली 

जस्टिस जेएस खेहर बुधवार को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया बन गए। राष्ट्रपति भवन में उन्होंने प्रणव मुखर्जी की मौजूदगी में पद की शपथ ली। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे। एक सख्त जज के तौर पर जाने जाने वाले देश के पहले सिख चीफ जस्टिस खेहर करीब 7 महीने तक इस पद पर रहेंगे। वह देश के 44वें चीफ जस्टिस हैं। खेहर उस समय देश के चीफ जस्टिस बन रहे हैं जब कार्यपालिका और न्यायपालिका के बीच जजों की नियुक्ति को लेकर टकराव चल रहा है।

जस्टिस जेएस खेहर ने ली CJI पद की शपथ

जस्टिस जेएस खेहर ने ली CJI पद की शपथ

जस्टिस जगदीश सिंह खेहर को ज़्यादातर उनके फ़ैसलों के लिए ही जाना जाता रहा है. ख़ासतौर पर उन फैसलों के लिए जो उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के जज के रूप में दिए हैं. जस्टिस खेहर ने साल 2011 के सितंबर माह में सुप्रीम कोर्ट के जज के रूप में शपथ ली थी. साल 2011 के सितंबर में सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुआ उनका कार्यकाल भी काफी चर्चा में रहा. सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर दिए गए उनके फ़ैसले हमेशा सुर्खियों में रहे. मिसाल के तौर पर 2-जी स्पेक्ट्रम का मामला जिसमें सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष ‘प्रेसिडेंशियल रेफ़रेंस’ की एक याचिका दायर की थी.

खेहर की अध्यक्षता में खारिज हुआ था NJAC
कलीजियम व्यवस्था को लेकर अहम फैसला सुनाने वाले खेहर की न्यायपालिका की सर्वोच्चता के बारे में राय बिल्कुल स्पष्ट है। खेहर कीअध्यक्षता वाली संवैधानिक पीठ ने ही सरकार की महत्वाकांक्षी राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (NJAC) कानून को खारिज कर दिया था। केन्द्र सरकार ने अगस्त, 2014 में NJAC एक्ट बनाया था। यह एक्ट संविधान में संशोधन करके बनाया गया था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि NJAC बनाने वाले कानून से संविधान के मूल ढांचे का उल्लंघन होता है और 5 जजों की संविधान पीठ ने इसे खारिज कर दिया था। पीठ में जस्टिस जेएस खेहर, जस्टिस जे. चेलमेश्वर, जस्टिस मदन बी लोकुर, जस्टिस कुरियन जोजेफ और जस्टिस ए. के. गोयल शामिल थे।

जस्टिस जेएस खेहर ने ली CJI पद की शपथ, बनें भारत के 44वें चीफ जस्टिस

जस्टिस जेएस खेहर ने ली CJI पद की शपथ

कोर्ट का वक्त बर्बाद करने वालों पर सख्त
13 सितंबर 2011 को सुप्रीम कोर्ट के जज बनने वाले खेहर सख्त कानूनी प्रशासक माने जाते हैं। खेहर बार-बार सुनवाई को स्थगित करने की अपील कर कोर्ट का समय खराब करने वाले लोगों के प्रति बहुत कठोर हैं। सुप्रीम कोर्ट में किसी केस के मामले में पूरी तैयारी नहीं करके आने वाले वकीलों के प्रति भी खेहर नरमी से पेश नहीं आते। एक बार तो खेहर कोर्ट रूम से इसलिए बाहर चले गए थे क्योंकि वकीलों ने अपने कागजात सही तरीके से पेश नहीं किए थे। दरअसल, खेहर बार को यह संदेश देना चाहते थे कि वकीलों को अपना पूरा होमवर्क करके ही कोर्ट में आना चाहिए था।

सहारा चीफ को भिजवा चुके हैं जेल
जस्टिस खेहर और जस्टिस के एस राधाकृष्णन की बेंच ने सहारा के चेयरमैन सुब्रत रॉय सहारा को निवेशकों के पैसे नहीं लौटाने के कारण तिहाड़ जेल भेज दिया था। बाद में कुछ वरिष्ठ वकीलों ने आरोप लगाया कि रॉय के मामले की सही सुनवाई नहीं हुई और उनके साथ प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत का पालन नहीं किया गया। हालांकि इन आरोपों के बावजूद खेहर ने इस मामले की दोबारा सुनवाई से इनकार कर दिया। बाद में एक नई बेंच के जिम्मे इस मामले को सौंपा गया। बावजूद इसके रॉय को दो साल से ज्यादा समय तक जेल में बिताने पड़े और उन्हें तभी परोल मिली जब उनकी मां का निधन हुआ।

अंसल बंधुओं पर हुए थे नाराज
हाल ही में उपहार कांड में अंसल बंधुओं को खेहर का गुस्से का शिकार होना पड़ा था। खेहर ने अंसल बंधुओं के वकील से अपने मुवक्किल की तरफ से हलफनामा मांगा जिसमें उनके देश छोड़कर नहीं भागने की बात हो। अंसल बंधुओं ने तुरंत ही इसपर हामी भरी थी।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

news

Truth says it all

Leave a comment