शराबबंदी का असर : 10 ठेके नीलाम, 14 ठेकों के लिए फिर नहीं आया आगे
Reading Time: 2 minutes
एम4पीन्यूज,चंडीगढ़|

नेशनल और स्टेट हाईवे के 500 मीटर के दायरे में शराब बंद होने के फैसले का ठेकेदारों पर काफी असर पड़ रहा है। इसलिए शहर में शराब के ठेकों की ऑक्शन के लिए रिस्पाॅन्स काफी फीका रहा है। इस साल 77 ठेकों के लिए आवेदन मांगे गए थे जिसमें 53 ही नीलाम हो सके हैं। अब बाकी बचे 24 ठेकों के लिए दोबारा बिड की जा रही है लेकिन उनके लिए भी कोई खरीदार नहीं रहे हैं। प्रशासन ने सोमवार तक 24 ठेकों की नीलामी के लिए आवेदन मांगे गए थे। उनके से भी महज 10 के लिए ही 13 ठेकेदारों ने आवेदन किए हैं। अब 14 ठेकों के लिए दोबारा आवेदन मांगे जाएंगे।

इन 10 ठेकों की नीलामी से प्रशासन ने 27 करोड़ 9 लाख रुपये का रेवेन्यू जुटाया। इन ठेकों के लिए 26 करोड़ 38 लाख रुपये का रिजर्व प्राइज निर्धारित किया गया था। नीलाम हुए ठेकों में सेक्टर 7 की इनर मार्किट का ठेका 5.15 करोड़ में नीलाम हुआ। सेक्टर 9 इनर मार्किट का ठेका 4.05 करोड़, सेक्टर 27 का 2.36 करोड़, सेक्टर 28 का 1.91 करोड़, सेक्टर 31 मार्किट का ठेका 2.41 करोड़, सेक्टर 33 का ठेका 2.16 करोड़, सेक्टर 45 का 3.16 करोड़, इंडस्ट्रियल एरिया फेज दो का ठेका 2.01 करोड़, रामदरबार का ठेका 2.01 करोड़ व मनीमाजरा शांति नगर का ठेका 1.85 करोड़ में नीलाम हुआ। दूसरी नीलामी में सेक्टर-7 इंटरनल मार्केट का ठेका सबसे महंगा 5 करोड़ 15 लाख रुपये में नीलाम हुआ। इसका रिजर्व प्राइज 4.97 करोड़ रुपये निर्धारित किया गया था। पहली नीलामी में साढ़े 9 करोड़ रुपये में भी एक ठेका नीलाम हो चुका है। जो अभी तक का सबसे महंगा ठेका रहा है।

अब कम्युनिटी सेंटर में खुलकर शराब पी सकेंगे। तीन साल से कम्युनिटी सेंटर्स में शराब पर लगाई पाबंदी को प्रशासन ने हटा दिया है। हालांकि स्टेट और नेशनल हाईवे के 500 मीटर दायरे में आने वाले कम्युनिटी सेंटर्स में शराब पर पाबंदी बरकरार रहेगी। लोग एक्साइज डिपार्टमेंट से 2 हजार रुपए का परमिट लेकर अपने फंक्शंस में शराब चला सकेंगे।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment