अग्नि-4 मिसाइल का सफल परीक्षण, एटमी हथियार ले जाने में है सक्षम
Reading Time: 2 minutes
एम4पीन्यूज|  

भारत ने सोमवार को परमाणु क्षमता से संपन्न स्ट्रैटजिक मिसाइल, अग्नि-4 का सफल परीक्षण किया। यह 4,000 किलोमीटर की दूरी तक वार कर सकता है। इसका परीक्षण ओडिशा के बालासोर तट पर किया गया। 26 दिसंबर को परमाणु क्षमता वाली बलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5 का सफल परीक्षण किया गया था। इसकी मारक क्षमता 5,000 किलोमीटर है। इसकी पहुंच चीन के सुदूर क्षेत्रों तक भी है। इन मिसाइलों के आधिकारिक रूप से भारतीय बेड़े में शामिल होने के बाद भारत में परमाणु क्षमता काफी बढ़ जाएगी।

परमाणु हथियारों से लैस बलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5 के सफल परीक्षण के बाद भारत अब मिसाइल क्षेत्र में एक और बड़ी छलांग लगाने की तैयारी में है। अग्नि-4 के बाद भारत अग्नि-6 पर भी काम कर रहा है। यह मिसाइल कई हथियार एक साथ ले जाने में सक्षम होगा और दुश्मन के डिफेंस सिस्टम यानी MIRVs (मल्टिपल इंडिपेंडेंटली टारगेटेबल री-एंट्री वीइकल्स) को मात देने के लिए तकनीकी रूप से चालाक होगा।

क्यों खास है अग्नि-5?
– अग्नि-5 सतह से सतह पर मार करने वाली मीडियम से इंटरकॉन्टिनेंटल रेंज की मिसाइल है। 27 दिसंबर, 2016 को यह इस मिसाइल का चौथा टेस्ट था। दूसरे और तीसरे टेस्ट से यह बात साबित हुई थी कि यह मिसाइल 20 मिनट में टारगेट को हिट कर सकती है।
– 19 अप्रैल 2012 को अग्नि का पहला, 15 सितंबर 2013 को दूसरा और 31 जनवरी 2015 को तीसरा टेस्ट हुआ था।
– साइंटिस्ट्स की मानें तो अग्नि-5 का नेविगेशन और गाइडेंस सिस्टम उसे खास बनाता है।
– मिसाइल में रिंग लेजर गायरो बेस्ड इनरशियल नेविगेशन सिस्टम (RINS) और माइक्रो नेविगेशन सिस्टम (MINS) टेक्नीक का इस्तेमाल किया गया है। इससे सटीक निशाना लगाने में मदद मिलती है।
– अग्नि में 85% स्वदेशी तकनीक का इस्तेमाल किया गया है।
– मल्टीपल इंडिपेंडेंटली टारगेटेबल री-एंट्री व्हीकल (MIRV) टेक्नीक के इस्तेमाल से एक साथ कई टारगेट पर वार कर सकेगी।

अग्नि-5 की जद में आधी दुनिया
– अमेरिका को छोड़कर पूरा एशिया, अफ्रीका और यूरोप भारत के दायरे में होगा।
– भारत की इस सबसे ताकतवर मिसाइल की रेंज में पूरा पाकिस्तान, अफगानिस्तान, इराक, ईरान और करीब आधा यूरोप आता है।
– अग्नि-5 चीन, रूस, मलेशिया, इंडोनशिया और फिलीपींस तक टारगेट पर निशाना लगा सकती है।

भारत-पाक की एटमी मिसाइलों में कितना फर्क
– दोनों देशों की मिसाइल टेक्नोलॉजी में बड़ा फर्क यह है कि भारत 5000 किलोमीटर तक वार करने वाली परमाणु मिसाइल अग्नि-5 डेवलप कर चुका है और 10 हजार किलोमीटर तक जाने वाली मिसाइल टेक्नोलॉजी डेवलप कर रहा है।
– पाकिस्तान अभी शाहीन-3 तक ही पहुंच पाया है। इसकी रेंज 2750 किमी है।
– पाक तैमूर इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल पर काम कर रहा है, जिसकी कैपेबिलिटी अग्नि-5 जितनी होगी। यानी पाकिस्तान अभी हमसे एक कदम पीछे है।
– वहीं, शाहीन 3 को लेकर पाक आर्मी का दावा है कि ये पूरे भारत में कहीं भी निशाना लगा सकती है। पूर्व में म्यांमार, पश्चिम में इजरायल और उत्तर में कजाखिस्तान तक एटमी हथियार से हमला कर सकती है।

ऐसे बढ़ती रही अग्नि की रेंज
– अग्नि 1:700 किमी।
– अग्नि 2:2000 किमी।
– अग्नि 3: 2500-3500 किमी।
– अग्नि-4: 4000 किमी।
– अग्नि 5: 5000 किमी।

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

Leave a comment