Reading Time: 2 minutes
एम4पीन्यूज,

हरियाणा के रोहतक में 23 वर्षीय युवती से गैंगरेप और हत्या के मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट से यह बात सामने आयी है कि उसके सिर पर किसी भारी हथियार से हमला किया गया. उसको नशीला पदार्थ खिलाकर गैंगरेप किया गया. इसके बाद उसके प्राइवेट पार्ट में कोई धारदार चीज डाली गई. पीड़िता की ग्रास नली का कुछ हिस्सा भी शरीर से गायब है.

रोहतक स्थित पीजीआईएमएस फोरेंसिक मेडिसिन विभाग के हेड डॉ. एस के धत्तेरवाल ने बताया कि किसी भोथरे हथियार से किया गया हमला पीड़िता के मौत का मुख्य कारण था. पीड़िता की खोपड़ी की कई हड्डियां टूटी हुई मिलीं. प्राइवेट पार्ट पर चोट थी, जिसका मतलब है कि महिला का यौन उत्पीड़न किया गया. उसके साथ बर्बरता की इंतहा की गई है.
उन्होंने बताया कि बलात्कार की पुष्टि के लिए नमूना फोरेंसिक प्रयोगशाला भेजा गया है. चोटों से यह बात सामने आई है कि हो सकता है कि पीड़िता के प्राइवेट पार्ट में कोई धारदार चीज डाली गई हो. पीड़िता से बलात्कार और उसकी हत्या से पहले उसे कोई नशीला पदार्थ दिया गया हो. उसके पेट में ऐसी दवा के संकेत मिले हैं, जो इस बात की तरफ इशारा कर रहे हैं.

पीड़िता के परिवार ने लगाया गंभीर आरोप
पीड़िता के परिवार ने यह भी आरोप लगाया कि हत्या से पहले उन लोगों ने पुलिस से मदद मांगी थी, उनके अनुरोध पर ध्यान नहीं दिया गया. इस बीच राष्ट्रीय महिला आयोग सदस्य रेखा शर्मा ने पीड़िता के परिवार से मुलाकात की और कहा कि वह उम्मीद करती हैं कि आरोपियों को निर्भया के हत्यारों जैसा कड़ा दंड मिलेगा. इस बीच पीड़िता के परिवार के लिए रविवार को 10.5 लाख रुपये आर्थिक मदद घोषणा की गई.

आवारा कुत्तों ने नोंच खाया युवती का शव
बताते चलें कि 23 वर्षीय युवती का क्षत विक्षत शव 11 मई को रोहतक के अर्बन एस्टेट स्थित औद्योगिक मॉडल टाउनशिप के पास मिला था. युवती नौ मई को लापता हो गई थी. उससे गैंगरेप के बाद बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी गई थी. आवारा कुत्तों ने उसका चेहरा और शरीर का नीचे का हिस्सा काट खाया था. इस अपराध की क्रूरता दिल्ली के निर्भया घटना की याद ताजा करती है, जिसने पूरा देश झकझोर दिया था.

शादी के लिए दबाव बना रहा था आरोपी
पीड़िता के परिजनों ने आरोप लगाया कि उन्होंने एक महीने पहले इस शिकायत के साथ सोनीपत पुलिस से सम्पर्क किया था कि सुमित उनकी पु़त्री को परेशान कर रहा है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. सोनीपत के पुलिस अधीक्षक अश्विन शेनवी ने आरोप का खंडन करते हुए कहा कि कुछ समय पहले युवती की ओर से पुलिस को एक मौखिक शिकायत दी गई थी कि मुख्य आरोपी उससे विवाह करने के लिए कह रहा है.

एसआईटी कर रही है इस केस की जांच
उन्होंने कहा कि वह एक मौखिक शिकायत थी और पुलिस थाने में कोई लिखित शिकायत नहीं थी. इसके बाद में शिकायतकर्ता और उसकी मां एक बार फिर थाने में आयीं और कहा कि उन्होंने एक समझौता कर लिया है और पुलिस कार्रवाई की कोई जरूरत नहीं है. डीएसपी मुकेश के नेतृत्व वाली एक एसआईटी मामले की जांच कर रही है. इसमें एक एसएचओ, सीआईए निरीक्षक और महिला पुलिस शामिल हैं.

Recommend to friends
  • gplus
  • pinterest

About the Author

news

Truth says it all

Leave a comment